Mohabbatien Started the Era of Love with Shahrukh Khan
Mohabbatien Started the Era of Love with Shahrukh Khan

हेलो दोस्तों मूवी टॉकीज में आज हम बात करेंगे Film Mohabbatein(मोहब्बतें) के बारे में मोहब्बतें पिक्चर शाहरुख खान(shahrukh khan) और अमिताभ बच्चन(amitabh bachchan) की हिट पिक्चरों में से एक पिक्चर है मोहब्बतें (Mohabbatein)पिक्चर शाहरुख खान(shahrukh khan) और अमिताभ बच्चन के हिट पिक्चरों में से एक पिक्चर है

मोहब्बतें(Mohabbatein) पिक्चर में शाहरुख खान के साथ अमिताभ बच्चन ऐश्वर्या राय (aishwarya rai)और शिल्पा शेट्टी की बहन सुष्मिता शेट्टी की भी अहम भूमिका है मोहब्बतें पिक्चर में अमिताभ बच्चन का एक स्कूल में प्रिंसिपल के पद पर होते हैं वह बहुत ही सख्त नियम के पालन करने पर हमेशा जोड़ देते रहते हैं उन्हीं की बेटी रहती है इस पिक्चर के अंदर ऐश्वर्या राय(aishwarya rai) और जिनको प्यार हो जाता है

शाहरुख खान(shahrukh khan) के साथ अमिताभ बच्चन(amitabh bachchan) के साथ सिद्धांतो के चलते इस पिक्चर में ऐश्वर्या राय को आत्महत्या करनी पड़ती है जो कि बाद में शाहरुख खान(shahrukh khan) उसी स्कूल में एक म्यूजिक टीचर बनकर आते हैं और उनकी इस मेंटालिटी को छुड़ाने का प्रयास करते हैं पूरी पिक्चर इसी के इर्द-गिर्द घूमती है

mohabbatein फिल्म के कुछ अमिताभ बच्चन(amitabh bachchan) के कुछ डायलॉग आज भी लोगों की जुबान पर रहते हैं जैसे कि उस फिल्म का एक सुप्रसिद्ध डायलॉग था कि गुरुकुल के तीन नियम है परंपरा प्रतिष्ठा और अनुशासन इस फिल्म में शाहरुख खान(shahrukh khan) के साथ आदित्य चोपड़ा भी नजर आए थे

जो कि बात पर धूम जैसी सीरीज में भी नजर आए शाहरुख खान(shahrukh khan) जो कि एक रोमांटिक हीरो के रूप में जाने जाते थे उन्होंने इस फिल्म में भी अपनी किरदार को बखूबी निभाया है ऐश्वर्या राय के साथ उनकी जोड़ी को भी लोगों ने बहुत सराहा था मोहब्बतें फिल्म के गाने आज भी लोगों की जुबां पर वैसे ही है जैसे उस समय रिलीज के टाइम पर थे

और फिर मैं के अंत अंत तक शाहरुख खान(shahrukh khan) अमिताभ बच्चन(amitabh bachchan) को मनाने में भी कामयाब हो जाते हैं और उनकी विचारधारा को भी तोड़ देते हैं कि आदमियों को प्यार करने की स्वतंत्रता नहीं होनी चाहिए शाहरुख खान अपने मंतव्य मेल कामयाब तो हो जाते हैं लेकिन ऐश्वर्या राय(aishwarya rai) किस की हीरोइन है जो उन्होंने आत्महत्या कर लिया था उनकी कुर्बानी कोई आया नहीं जाने देते हैं और अंततः उनकी अमिताभ बच्चन की विचारधारा को बदल देते हैं

इस मूवी में उदित नारायण और लता मंगेशकर ने गाना गया था जोकि आज भी हिट है

song

“हमको हमीं से चुरा लो”
“चलते चलते यूँ ही”,.
“पैरों में बंधन है”
“जिंदा रहती है उनकी मोहब्बतें”
“आँखें खुली हो”
“सोणी सोणी”

इस फिल्म ने बहुत सरे अवार्ड भी अपने नाम किये थे जोकि इस प्रकार है

सर्वश्रेष्ठ फ़िल्म यश चोपड़ा
सर्वश्रेष्ठ अभिनेता शाहरुख़ ख़ान
सर्वश्रेष्ठ सहायक अभिनेत्री ऐश्वर्या राय
सर्वश्रेष्ठ निर्देशक आदित्य चोपड़ा
सर्वश्रेष्ठ संगीत निर्देशन जतिन ललित